संघर्ष की कविता

Motivationalwala.com

क्या काम का वो आज जिसमे तेरा कल नहीं


क्या काम का वो कल जिसमे तू सफल नहीं


सफल हो विफल नहीं


पल पल सोच नहीं फल तू


मेहनत कर छू ले आसमां तू


निराशा के बादल भी छट जाएंगे


फिर वही खुशियों के दिन आएंगे


सारे गम दूर हो जाएंगे


फिर वही उत्साह आएगा


जीवन संवर जाएगा


रोके नहीं कोई रोक पाएगा


चाहें ये जमाना कितनी ही पाबंदियां लगाएगा


तू है ये 


ये जान ले


अपने को स्टार मान ले


ना समझ अपने को कम


कोई नहीं अभी मत गीन अपने जख्म तू


अंदर से बहुत रोया है


ये वही व्यक्ति है जो कभी चैन से नहीं सोया है


समय को टूक टूक देखा है


हर क्षण प्रतिक्षण समय को समझा है


और बताया समय ही जीवन की रूप रेखा है


ये खेल ही ऐसा है


जिसमे हार ना जीत है


जो ये समझ जाय


वही जीवन की रीत है

Post a Comment

2 Comments

If you have any doubts let me know and thanks for giving your valuable time to visit my site.