successful peoples daily habits in hindi


सफल और असफल लोगों की सोच (successful logo ki soch in hindi)


दोस्तो, आप कभी असफल नहीं होते, हां आपने सही पढ़ा आप कभी भी असफल नहीं होते. आपका हरेक कदम एक सफलता की ओर अग्रसर होता है. आप जिसे असफलता कहते हैं, वास्तव में वो आपकी सफलता की राह में एक कदम होता है. बस एक बात याद रखिए दोस्तो आप कितने ही सफल क्यों ना हो जाओ, बस अपना सीखने वाला रवैया कभी मत छोड़ना. जीवन में कभी कोशिश करना मत छोड़ना क्योंकि कोशिश करने वालो की कभी हार नहीं होती और कुछ करे बगैर ही जय जयकार नहीं होती.



सफल और असफल लोगों में होते हैं ये लक्षण (successful peoples daily habits in hindi)


1. कम मेहनत और ज़्यादा लाभ (Less work and extra profit)
अक्सर 90% लोगों की ये ही सोच होती है कि उन्हें कम मेहनत करनी पड़े और लाभ उन्हें ज़्यादा से ज़्यादा हो.अगर आपको अपनी सफलता में 4 चांद लगाने हैं तो आपको ऐसी सोच से बाहर निकलना होगा और अपने सपनो को साकार करने के लिए मेहनत का दामन पकड़ना होगा.

2. आदतें और आपका लाइफ स्टाइल (Habits and lifestyle)
एपीजे अब्दुल कलाम सर ने कितनी अच्छी बात कही है कि "हम अपना भविष्य तो नहीं बदल सकते परन्तु हम अपनी आदतें अगर अच्छी कर ले तो हम अपना भविष्य जरूर अच्छा कर सकते हैं" हमें कलाम सर की इस बात से सीखने की जरूरत है. हमें अपने लाइफ स्टाइल में अच्छी आदतों का समावेश करना चाहिए ताकि हम अपना भविष्य उज्ज्वल कर सके.

3. किस्मत या भाग्य का साथ (Don't trust on destiny)
भाग्य के भरोसे बैठने वालो को सिर्फ उतना ही मिलता है जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं. "भाग्य के भरोसे मत बैठे क्या पता कोई आपके भरोसे बैठा हो" ये बात में मांझी द माउंटेन मैन मूवी देखकर समझ पाया.

4. सोशल मीडिया (Social Media)
वर्तमान पीड़ी सोशल मीडिया और गैजेट्स की है. लोग इस दुनिया में इतने मशगूल हो गए हैं कि वे अपनी बुद्धि, समझ और किमती समय को कितनी बुरी तरह खत्म करते जा रहे हैं इस बात का उन्हें एहसास तक नहीं है. सफलता का मार्ग प्राप्त करने के लिए सोशल मीडिया से दूरी बनाना ज़रुरी है. मैं यह नहीं कहता कि आप सोशल मीडिया का उपयोग बिल्कुल ना करें, बल्कि आप इसका सीमित उपयोग करें. मेरा मानना है कि अगर आप सोशल मीडिया का सीमित उपयोग करते हैं तो वह आपके लिए कारगर हैं.

5. अच्छा श्रोता (Good listener is a good speaker)
एक सफल व्यक्ति अच्छा श्रोता होता है. आपने वह कहावत तो सुनी होगी कि एक अच्छा श्रोता एक अच्छा वक्ता भी होता है. दोस्तों आपके अंदर सुनने की क्षमता होनी चाहिए जितना आप सुनेंगे उतनी आपके अंदर बोलने की क्षमता भी विकसित होगी.


6.कल पर टालना (Do it tomorrow !)
अक्सर हमारे अंदर काम को कल पर टालने की आदत होती है और वह कल कभी नहीं आता. दोस्तों जो आपको करना है वह आज ही करना है ऐसी मानसिकता हमें रखनी चाहिए क्योंकि एक कहावत तो आपने सुनी ही होगी "आज नहीं तो कभी नहीं" काम को कल पर टालने वाली आदत एक बहुत ही बुरी आदत बन जाती है जिसके कारण हमारा काम कभी संपन्न नहीं हो पाता और यह बहुत बड़ा अंतर सफल और असफल लोगों में देखने को मिलता है.

7. दृढ़ संकल्प का अभाव (Lack of determination)
दृढ़ संकल्प एक ऐसी अभूतपूर्व शक्ति है जोकि आपसे असंभव काम को भी संभव बना देती है. अक्सर हम दृढ़ संकल्प तो करते हैं परंतु वह 5 से 6 दिन चलता है उसके बाद वह दृढ़ संकल्प मात्र एक स्वपन बन के रह जाता है. सफल व्यक्ति और असफल व्यक्ति में संकल्प का अभाव अक्सर देखा जाता है. सफलता प्राप्त करने के लिए दृढ़ संकल्प का होना बहुत ही जरूरी है. सफलता प्राप्त करने के लिए पागल बनना पड़ता है. सफलता कुछ दो चार दिनों की मेहनत का परिणाम नहीं बल्कि यह तो वर्षों की तपस्या का परिणाम होती है.

8. एकाग्रता ना होना (No focus on goal)
इस बहुरंगी दुनिया में व्यक्ति के लिए मन को अपने लक्ष्य प्राप्त करने के लिए एक एकाग्र रखना बहुत जरूरी है. एक बार में एक काम करना और एक काम के प्रति ही अपना मन लगाना लक्ष्य प्राप्त करने का अचूक, अबेध नुस्खा है. दोस्तों हमारा मन बड़ा ही विचलित है इसे आप को एकाग्र करने के लिए मेडिटेशन योग साधना जैसे उपाय करना बहुत जरूरी है, इन उपायों से आपको अपने लक्ष्य प्राप्त करने के लिए बहुत मदद मिलेगी.


9. समय सूचिका का पालन नहीं करना (Lack of discipline time table)
टाइम टेबल तो हरेक विधार्थी बना लेता है परन्तु उसे नियमित फॉलो करना वह भूल जाता है. एक सफल व्यक्ति नियमित समय सूचिका का पालन करता है और दोस्तो समय सूचिका में धीरे धीरे परिवर्तन करना भी जरूरी होता है. इतिहास हमें बताता है कि परिवर्तन ही समय की मांग है.

10. केवल प्लान ए, बी नहीं (Only plan A, not B)
जीवन में केवल लक्ष्य एक ही होना बेहद जरूरी है, लेकिन आपकी हॉबी जरूर बहुत सारी हो सकती है. अक्सर हम प्लान बी के चक्कर में फसकर अपने प्रमुख लक्ष्य से भटक जाते है और ऐसी अवस्था में ना तो हमारा प्लान ए और ना ही प्लान बी सफल हो पाता है. यह असफल और सफल लोगों के बीच में एक प्रमुख कारण है.

11. ज्यादा बोलना कम करना (Don't speak too much)
रामानंद सागर जी की दूरदर्शन पर प्रसारित रामायण कार्यक्रम देखा तो इसमें एक बात सीखी कि करने वाले बनो, गुणगान करने वाले नहीं. रामायण के एक प्रसंग में बताया जाता है कि "इस दुनिया में 3 तरह के लोग होते हैं एक वो जो बोलते है वो करते है, दूसरे वे जो बोलते बोलते हैं और करते कुछ नहीं और तीसरे वो जो ना तो बोलते और ना ही गुणगान करते सिर्फ करके दिखाते है" अब आप निर्धारण कर लीजिए कि आप किस श्रेणी में आते हैं.







Post a Comment

0 Comments