झूठ का परिणाम | Panchtantra Story

आज की इस पोस्ट में हम panchtantra ki khani पढ़ेंगे। पंचतंत्र की कहानियां विष्णु शर्मा जी द्वारा लिखी बेहतरीन हिंदी कहानियों का एक संग्रह है। आइए पढ़ते हैं hindi panchtantra story :




झूठ का परिणाम
(Panchtantra Story In Hindi)


सूरजपुर गांव में रवि नाम का एक  लड़का था। वह अपनी भेड़ों के झुंड को चरा रहा था। एक दिन उसके मन में शरारत करने का ख्याल आया और गांव वालों को पागल बनाने की सोची। 


उन भोले भाले गांव वालों को पागल बनाने के लिए वह लड़का झूठ बोल कर चिल्लाने लगता है कि "भेड़िया आया, भेड़िया आया"।


गांव वाले उसकी आवाज सुनकर सब लाठी डंडा लेकर उसकी सहायता के लिए दौड़ते हैं…..


लेकिन जब वह लोग वहां पहुंचे तो देखा कि वहां कोई भेड़िया नहीं था और उन गांव वालों को संतुष्टि मिली कि उनके बच्चें और भेड़ें सही सलामत हैं। 


गांव वाले समझ गए थे कि रवि ने झूठ बोला हैं और गांव वालो को उस पर बहुत गुस्सा आया लेकिन रवि को ये झूठ बोलकर इस शरारत में उसे तो बहुत मजा आया था और वह ऐसा बार बार करने लगा किंतु.....


एक दिन वास्तव में भेड़िया आ ही गया……


रवि जोर जोर से चिल्लाने लगा, जब गांव वालों ने उसकी आवाज़ सुनी तो उन्होंने अनसुना कर दिया और कहने लगे कि यह लड़का हर बार झूठ बोलता है इसलिए कोई भी उसकी मदद के लिए नहीं आया। 


भेड़िया उस लड़के को और उसकी भेड़ों को घायल करके भाग जाता है...


जब रवि शाम तक घर नहीं पहुंचता तो गांव वाले उसे ढूंढने लगते हैं और उन्हें वह बेहोश और अधमरी हालत में मिलता है.....


जब वह होश में आया तो उसे समझ आया कि ऐसे झूठ नहीं बोलना चाहिए था और वह अपने पापा के गले लगकर रोने लगता है और आखिर में अपनी गलती की सबसे माफी मांगता है।


सीख

(Moral Of The Story)


हमें कभी बिना बात के झूठ नहीं बोलना चाहिए। झूठ बोलने से लोगों का विश्वास हम पर से कम हो जाता है।


Read Also :


स्वामी विवेकानंद जी की बड़ी ही रोचक कहानी


चार घोड़ों की रोचक कहानी

Post a Comment

0 Comments