Advertisement

Responsive Advertisement

चार घोड़ों की कहानी

 जीवन में उत्साह और प्रेरणा भर देने वाली बेहतरीन प्रेरक कहानियां
(Best Motivational Story In Hindi)


दोस्तो, हमारी जिंदगी में प्रेरणादायक कहानियों (Motivational Story In Hindi) का एक अलग ही महत्व है। जब भी हम निराशा के अन्धकार में खुद को पड़ा पाते हैं तो किसी की प्रेरक बातें, शब्द या कहानी  ही अक्सर हमें याद आती है।

आज की हम अपनी इस पोस्ट में लाए है ऐसी बेहतरीन कहानी (short motivational story in hindi with moral) जो आपके भीतर उत्साह और उमंग का संचार कर देंगी।




|| बेहतरीन मोटिवेशनल कहानी ||
(Best Motivational Story In Hindi)

 
 || चार घोड़ों की कहानी ||

राजा वीरमणि को घुड़सवारी का बहुत शौक था, वे घुड़सवारी के इतने शौकीन थे कि विदेशों से नई नई नस्ल के घोड़े मंगवाकर घुड़सवारी किया करते थे। 


एक बार क्या हुआ कि राजा वीरमणि ने कानपुर से चार नायाब घोड़े खरीदकर अपने दरबार में ले आए। कुछ दिन बाद राजा के मन में उन नायाब घोड़ों पर घुड़सवारी करने का विचार आया।


परंतु वे नायाब घोड़े थे उन पर राजा जैसे ही बैठने की कोशिश करता तो घोड़े हिनहिनाने लगते थे। राजा के बहुत बार कोशिश करने के बाद भी राजा उन घोड़ों को काबू नहीं कर पाया। राजा ने अपने सिपाहियों को घोड़ों को काबू करने का आदेश दिया परंतु पूरे एक महीने तक अथक प्रयास करने के बाद भी वो चारों घोड़े किसी के वश में नहीं हुए। बहुत से सिपाहियों को वो चारों घोड़े घायल कर चुके थे। सिपाही अब हिम्मत हार चुके थे


 राजा भी जिद्दी था, उसे किसी भी हालात में उन घोड़ों पर घुड़सवारी करनी ही थी। उसने दूसरे नगरों से भी लोगों को बुलवाकर घोड़ों को काबू करवाने की कोशिश कर ली, परंतु घोड़े अपनी अलग ही धुन में रहते थे।


एक बार राजा ने महेंद्रगढ़ी नगर से एक युवक को बुलाया और उसे उन घोड़ों को काबू करने का काम सौंपा।

पढ़े :

युवक ने हालांकि इससे पहले कभी ये काम किया नहीं था, एक दो बार ही उसने घोड़ों को काबू किया था लेकिन राजा के बोलने पर वह उन्हें मना किस मुंह से करता इसलिए युवक ने राजा की, हां में हां कर दी।


जब युवक राजा के यहां पहुंचा तो उसने देखा घोड़े तो सच में बहुत ही बिगड़े हुए थे। राजा से उस युवक ने अपने साथ उन घोड़ों को ले जाने के लिए कहा, और युवक ने कहा कि आपके घोड़े कुछ समय बाद पूरी तरह से ठीक हो जाएंगे। राजा ने युवक की बात मान ली और उन घोड़ों को युवक के हवाले कर दिया।


हफ्ते बीत गए, महीने बीत गए और अब तो पूरा एक साल होने वाला था मगर राजा के पास वो युवक घोड़े लेकर नहीं लेकर आया। राजा बहुत व्याकुल होता जा रहा था, अब राजा से सब्र नहीं हो रहा था। अगले ही दिन राजा देखता हैं कि युवक उन चारों घोड़ों को अपने साथ साथ एक पंक्ति में लेकर आ रहा होता है।


राजा ये दृश्य देखकर बहुत हैरान होता है और युवक से पूछता है तुमने ये कारनामा कैसे किया! युवक बड़ा ही सुन्दर जवाब देता है, वो कहता है कि आप सबकी ये गलती थी कि आप उन घोड़ों को पहली बार में ही काबू करने का प्रयास कर रहे थे जबकि मैंने ऐसा नही किया।


पढ़े :
दोस्ती की मिसाल

मैंने इन चारों घोड़ों की आदतों को पहले जाना फिर मैंने योजना बनाई और उनके जैसा करने लग गया। जैसे ही ये चारों घोड़े दौड़ने लगते थे तो मैं भी दौड़ने लगता और जिस समय ये खाना खाते मैं भी उसी समय उनके साथ खाना खाता था।


धीरे धीरे ऐसा करते करते मुझे ये अपने ग्रुप का समझने लगे और वो समझने लगे कि ये पांचवा घोड़ा हमारी टोली का ही है।


धीरे धीरे मैं उनका दोस्त बन गया और मैंने फिर उनको trained करना शुरू कर दिया और बाद में, मैंने उनकी पीठ पर बैल्ट भी बांध दी। इस तरह मैंने इन चारों घोड़ों को तैयार करा।


सीख (Moral of The Story)


दोस्तों, ऐसे ही चार घोड़े हमारे भीतर भी है पहला घोड़ा मानस (physical being), दूसरा बुद्धि (intellect), तीसरा चिंता (worry) और चौथा अहंकार (ego) हम इन चारों घोड़ों पर बहुत ही जल्दी control करना चाहते हैं परंतु हम इन पर काम नहीं करना चाहते। हमें पहले इन चारों चीज़ों पर काम करना चाहिए ताकि हम पूरी तरह एक समझदार व्यक्ति बनकर उभरे।


✍️स्वामी निरंजनदास 


पढ़े़े़े़े : 
6 बेहतरीन मोटिवेशन कहानियां

दोस्तों, आपको हमारी ये Motivational Story in hindi पढ़के कैसे लगी? Comment box में जरूर बताएं. हमारी Motivational story in Hindi और पढ़ने के लिए हमें subscribe करे और हमें support करने के लिए हमारी post को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।


 अगर आपके पास भी motivational story in hindi या अन्य कुछ प्रेरणादायक विचार हैं तो हमें जरूर भेजिएगा, अगर हमें आपकी पोस्ट अच्छी लगेगी तो हम उसे अपने blog में जरूर publish करेंगे। आप हमें shankibhatia1998@gmail.com पर mail कर सकते हैं।

 

अगर आप हमें हमारी पोस्ट से संबंधित कुछ सुझाव देना चाहते हैं जैसे कि आप किन topics पर पोस्ट चाहते हैं तो आपका हार्दिक स्वागत है. हमें आप अपने बहुमूल्य सुझाव comment box में दे सकते हैं।




पढ़े : चार बेहतरीन मोटिवेशनल कहानियां


विराट कोहली की कहानी








 

Post a Comment

1 Comments

  1. Waah sir yE Bdiya story h apne emotions ko control krne k liye👏👏

    ReplyDelete

If you have any doubts let me know and thanks for giving your valuable time to visit my site.