Advertisement

Responsive Advertisement

बेहतरीन प्रेरणादाई कहानी

जीवन में जब भी परेशानी होती हैं या दुख होता हैं तो हम कुछ मोटिवेशन की तरफ दौड़ते है, आज ऐसी ही एक बेहतरीन प्रेरणादाई कहानी है जो आपको काफी हद तक प्रेरणा देगी।



चीची चिड़िया की परेशानी
(Moral Story In Hindi)


चीची चिड़िया अपने ग्रुप की चिडियाओ से काफी ऊंचा उड़ा करती थी, और बहुत ज्यादा बोला भी करती थी।


वह बहुत ही बेचैन सी रहती थी, कभी इस डाल पर तो कभी उस डाल पर कूदती फुदती रहती थी लेकिन चीची चिड़िया में एक आदत थी।


वह अपने जीतने भी साथी चिड़ियाओ के साथ रहती थी उनके बराबर उतने ही पत्थर अपने पोटली में रखा करती थी।


वह अपनी पोटली में सफेद अच्छे पत्थर और काले गंदे पत्थर रखा करती थी। जब चिड़िया के साथ अच्छा होता तो वह सफेद पथरों को देखकर खुश होती और जब कुछ बुरा होता तो काले पथरों को देखकर दुखी हो जाती, चीची चिड़िया रोज ऐसा करती थी।


चिड़िया के ग्रुप में और चिड़िया के आ जाने से अब चीची चिड़िया की पोटली भारी होती जा रही थी, वह अब बड़ी मुश्किल से उड़ पाती थी। 


धीरे धीरे उसकी पोटली बहुत ही भारी हो गई, और अब चीची चिड़िया उड़ नहीं सकती थी, जिसके कारण वह अब अपने लिए भोजन भी नहीं तलाश पाती थी।


दिन धीरे धीरे बीतते जाते हैं, और वो चिड़िया पथरों की पोटली के बोझ तले मर जाती है।


सीख

(Hindi Moral Story)


हमारी जिंदगी भी चीची चिड़िया जैसी बन चुकी हैं, हम पुराने बीते ख्यालों में खोकर खुद को परेशान करते रहते है और खुद को सोच सोचकर इतना परेशान कर लेते हैं कि डिप्रेशन में आ जाते हैं और आत्महत्या तक लोग कर लेते हैं। हमें वर्तमान के पलों को जीना चाहिए और हर पल खुशी खुशी बिताने की कोशिश करनी चाहिए।



दोस्तों, आपको हमारी ये Motivational Story in hindi पढ़के कैसे लगी? Comment box में जरूर बताएं. हमें support करने के लिए हमारी post को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।


अगर आपके पास भी hindi moral story या अन्य कुछ प्रेरणादायक विचार, कविताएं, प्रेरक प्रसंग या अन्य प्रेरक तथ्य इत्यादि हैं तो हमें जरूर भेजिएगा, अगर हमें आपकी पोस्ट अच्छी लगेगी तो हम उसे अपने blog में अपके फोटो सहित उसे जरूर publish करेंगे। आप हमें motivationalwala@gmail.com पर mail कर सकते हैं।



यह भी पढ़ें (Read Also Related To Post)


दोस्ती की मिसाल


प्रतिभा की खोज


आखरी प्रयास


सच्चाई की ताकत

Post a Comment

0 Comments